2line shayari : चलो माना की हमे प्यार का

अज़ान-ए-हुस्न देती है तेरे रुखसार की मज़्जिद,अगर हो इजाज़त तो होंठों से एक सजदा प्यार का कर लूँ!! चलो माना की हमे प्यार का इज़हार करना नहीं आता,जज़्बात ना समझ…

0 Comments