Love Shayari : अगर आप अजनबी थे तो लगे क्यों नहीं,

Love Shayari in Hindi

अगर आप अजनबी थे तो लगे क्यों नहीं,
और अगर मेरे थे तो मुझे मिले क्यों नहीं।

 

Must Read : तुझे पाने की इस लिए जिद नहीं करते,,,, की तुझे खोने को दिल नहीं करता ,,,

Agar Aap Ajnabi The To Lage Kyu Nahin,
Aur Agar Mere The To Mujhe Mile Kyu Nahin.

Love shayari : सुन पगली, तुम्हारी फ़िक्र हैं ‘शक’ नहीं,

सुन पगली,
तुम्हारी फ़िक्र हैं ‘शक’ नहीं,
तुम्हें कोई और देखे ये किसी को हक़ नहीं,
=====================================

Sun pagli
tumhari fikar hai “shak” nahi
tumhe koi or dekhe ye kisi ko “hak” nahi

love shayari: जानते हो सब फिर भी अंजान बनते हो,

love Shayari in Hindi

 

जानते हो सब फिर भी अंजान बनते हो,
इस तरह क्यों हमें परेशान करते हो,
पूछते हो तुम्हें क्या-क्या पंसद है,
जवाब खुद हो फिर भी सवाल करते हो! 💕

Jante ho sab fir bhi anjaan bante ho,
Isi tarah kyo hume paresan karte ho,
Puchte ho ki tumhe kya-kya pasand hai,
Khud jawab hokar bhi ye sawal karte ho. 💕

love Shayari in Hind

love shayari: आखों की गहराई में तेरी…

love Shayari in Hindi

आखों की गहराई में तेरी
खो जाना चाहता हूँ,
आज तुझे बाँहों में लेकर
सो जाना चाहता हूँ,
तोड़ कर हदे मैं आज सारी
अपना तुझे बना लेना चाहता हूँ….! 💏

Aakhon ki gaharai mein teri
Kho jaana chahata hoon..
Aaj tujhe bahon mein lekar
So jaana chahata hoon…..
Tod kar hade main aaj saari
Apna tujhe bana lena chaahata hoon! 💏

love Shayari in Hindi

love shayari: Teri mohabbat se mujhe inkaar nahi,

love Shayari in Hindi

तेरी मोहब्बत से मुझे इनकार नहीं,
कौन कहता है जान मुझे तुझसे प्यार नहीं,
तुझसे वादा है साथ निभाने का,
पर मुझे अपनी साँसों पे एतबार नहीं! 💕

love Shayari in Hindi

Teri mohabbat se mujhe inkaar nahi,
Kaun kehta hai jaan mujhe tujhse pyaar nahi,
Tujhse waada hai saath nibhaane ka,
Par mujhe apni saanson pe aitbaar nahi. 💕

love shayari : Hamne dekhi hai un aankhon ki mehakti khushboo,

love Shayari in Hindi

हम ने देखी है इन आँखों की महकती खुशबू,
हाथ से छूके इसे रिश्तों का इल्ज़ाम न दो,
सिर्फ़ एहसास है ये रूह से महसूस करो,
प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम न दो। 💕

love Shayari in Hindi

Ham ne dekhi hai un aankhon ki mehakti khushboo,
Haath se chhoo ke ise rishton ka ilzaam na do,
Sirf ehsaas hai ye, rooh se mehsoos karo,
Pyar ko pyar hi rehne do, koi naam na do! 💕