love shayari: जानते हो सब फिर भी अंजान बनते हो,

love Shayari in Hindi   जानते हो सब फिर भी अंजान बनते हो,इस तरह क्यों हमें परेशान करते हो,पूछते हो तुम्हें क्या-क्या पंसद है,जवाब खुद हो फिर भी सवाल करते…

0 Comments

love shayari: Teri mohabbat se mujhe inkaar nahi,

love Shayari in Hindi तेरी मोहब्बत से मुझे इनकार नहीं, कौन कहता है जान मुझे तुझसे प्यार नहीं, तुझसे वादा है साथ निभाने का, पर मुझे अपनी साँसों पे एतबार…

0 Comments