love shayari : तेरे जिस्म पर अपने जिस्म को रखूं,

love Shayari in Hindi

तेरे जिस्म पर अपने जिस्म को रखूं,

तेरे होठों को अपने होठों से मसलू,

तुझ से प्यार मैं इतनी शिद्दत से करू,

की उस मीठे दर्द से तेरी आह निकल जाए,

दर्द से तेरी आँखो से आंसू झलक जाए,

ओर तू तन से ओर मन से सिर्फ़ मेरी हो जाए,

बदन से तेरे लिपटा रहूं ओर सुबह हो जाए,

सुबह तुझसे जब मैं पूछू तेरी रात का आलम,

तू शर्मा कर मेरे सीने से लिपट जाए!!

tere jism par apane jism ko rakhoon,

tere hothon ko apane hothon se masaloo,

tujh se pyaar main itanee shiddat se karu,

ki us mithe dard se teri aah nikal jaye,

dard se teri aankho se aansoo jhalak jaye,

or too tan se or man se sirf meri ho jaye,

badan se tere lipata rahoon or subah ho jaye,

subah tujse jab main poochhoo teri raat ka aalam,

too sharma kar mere seene se lipat jaye!!

love Shayari in Hindi