good morning wishs : निकालो अपना चाँद सा चेहरा,

1 निकालो अपना चाँद सा चेहरा, आगोश-ए-बिस्तर से,
सुबह तरस रही है तेरा दीदार करने को!!

nikhalo apna chand sa chehara, aagos-a-bistar se,
subah taras rhi hai tera didar karne ko||

 

2 अर्ज किया है,
चाय के कप से उठते धुए में तेरी शक्ल नजर आती है,
ऐसे खो जाते है तेरे खयालों में कि, अक्सर मेरी चाय ठंडी हो जाती है!!
“Arz kiya hai”,
chai ke cup se uthate dhue mein teri shakl najar aati hai,
aise kho jaate hai tere khayaalon mein ki, aksar meri chai thandi ho jati hai!!

“Anjali lalawat”