Love Shayari : आपके आने से ज़िन्दगी कितनी ख़ूबसूरत है,

Love Shayari in Hindi

आपके आने से ज़िन्दगी कितनी ख़ूबसूरत है,
दिल में बसायी है जो वोह आपकी ही सूरत है,
दूर जाना नहीं हमसे कभी भूलकर भी,
हमे हर कदम पर आपकी ज़रूरत है,

aapke aane se jindgi kitni khubsurat hai,
dil main basai hai jo woh aaoki hi surat hai,
dur jana nahi hamse kabhi bhoolkar bhi,
hame har kadam par aapki jarurat hai,

Love Shayari : अगर आप अजनबी थे तो लगे क्यों नहीं,

Love Shayari in Hindi

अगर आप अजनबी थे तो लगे क्यों नहीं,
और अगर मेरे थे तो मुझे मिले क्यों नहीं।

 

Must Read : तुझे पाने की इस लिए जिद नहीं करते,,,, की तुझे खोने को दिल नहीं करता ,,,

Agar Aap Ajnabi The To Lage Kyu Nahin,
Aur Agar Mere The To Mujhe Mile Kyu Nahin.

Love Shayari : तेरी ये रेशमी ज़ुल्फ़ें हैं एक जंजीर के टुकड़े,

Love Shayari in Hindi

तेरी ये रेशमी ज़ुल्फ़ें हैं एक जंजीर के टुकड़े,
मेरी नस-नस में बसे है तेरी तस्वीर के टुकड़े,
अगर यकीन ना आये तो दिल चीर के दिखा दूँ,
मेरे दिल से भी निकलेंगे तेरी तस्वीर के टुकड़े।

Teri Ye Reshami Julfen Hain Ek Janjeer Ke Tukde,
Meri Nas-nas Me Base Hain Teri Tasveer Ke Tukde,
Agar Yakin Naa Aye To Dil Cheer Ke Dikha Du,
Mere Dil Se Bhi Nikalengey Teri Tasveer Ke Tukde.

 

Must Read : इस रिश्ते को यूँ ही बनाये रखना, दिल में यादों के चिराग जलाये रखना

Love Shayari : कलम चलती है तो दिल की आवाज लिखता हूँ,

Love Shayari in Hindi

कलम चलती है तो दिल की आवाज लिखता हूँ,
गम और जुदाई के अंदाज़-ए-बयां लिखता हूँ,
रुकते नहीं हैं मेरी आँखों से आँसू,
मैं जब भी उसकी याद में अल्फाज़ लिखता हूँ।

Kalam Chalati Hai To Dil Ki Awaaj Likhta Hoon,
Gham Aur Judai Ke Andaaj-e-bayan Likhta Hoon,
Rukte Nahi Hai Meri Aankhon Se Aansu,
Main Jab Bhi Uski Yaad Me Alfaaz Likhta Hoon.

Love shayari : वो अपने मेहंदी वाले हाथ मुझे दिखा कर रोई,

Love  Shayari in Hindi

वो अपने मेहंदी वाले हाथ मुझे दिखा कर रोई,
अब मैं हुँ किसी और की, ये मुझे बता कर रोई,
पहले कहती थी कि नहीं जी सकती तेरे बिन,
आज फिर से वो बात दोहरा कर रोई…
कैसे कर लुँ उसकी महोब्बत पे शक यारो…!!
वो भरी महफिल में मुझे गले लगा कर रोई…

wo apne mehandi wale hath muje dikhakar roi
ab me hu kisi aur ki, ye mujhe bata kar roi
pahle khti thi ki nahi ji sakti tere bin
aaj phir se wo bat dohara kar roi
kaise kar lu uski mahobbat par sakh yaro
wo bhari mahafil m mujhe gale lagakar roi

Miss u Shayari : क्यों तुम मेरे ख्यालों में आकर चली जाती हो….

Miss u Shayari In Hindi

क्यों तुम मेरे ख्यालों में आकर चली जाती हो |
अपनी जुल्फों को बिखराकर चली जाती हो ||
रग रग में उमड़ आता हैतूफान हुस्न का |
तुम जो फूल सा मुस्कुराकर चली जाती हो ||
~•i miss you~• jaan

kyo tum mere khayalo me aakar chali jati ho …
apni julfo ko bikhrakar chli jati ho …
rag – rag me umad aata hai tufan husan ka ……
tu ji phool sa muskrakar chali jati hu …..
~•i miss you~• jaan

Love Shyari : मंजिल भी उसकी थी रास्ता भी उसका था…

Love Shyari in hindi

Manzilein Bhi Uski Thi Rasta Bhi Uska Tha,
Main Akela Tha Aur Qafila Bhi Uska Tha,
hatho me hath tham kar Chalne Ki Soch Bhi Uski Thi,
Fir Rasta Badal Lene Ka Faisla Bhi Uska Tha,
Aaj kyun akela hoon Dil sawal karta hai,
Log to uske the Kya KHUDA bhi uska tha ?

मंजिल भी उसकी थी रास्ता भी उसका था ,,,
मैं अकेला था और काफिला भी उसका ,,,
हाथो में हाथ थम कर चलने की सोच भी उसकी थी ,,
फिर रास्ता बदलने का फैसला भी उसका था ,,,,
आज क्यों अकेला हूँ दिल सवाल करता है। .
लोग तो उसके थे क्या खुदा भी उसका था ,,

Love Shayari : मेरे दिल को अगर तेरा एहसास नहीं होता,

Love Shayari in Hindi

मेरे दिल को अगर तेरा एहसास नहीं होता,
तू दूर रह कर भी यूं मेरे पास नहीं होता,
इस दिल में तेरी चाहत ऐसे बसा ली है,
एक लम्हा भी तुझ बिन ख़ास नहीं होता।

Mere Dil Ko Agar Tera Ehsaas Nahi Hota,
Tu Dur Rah Kar Bhi Yun Paas Nahi Hota,
Iss Dil Mein Teri Chahat Aise Basi Hai,
Ek Lamha Bhi Tujh Bin Khaas Nahi Hota.

Love Shayari : उठती नहीं है आँख किसी और की तरफ,

  Love Shayari in hindi

UthhTi Nahi Hai Aankh Kisi Aur Ki Taraf,
Paband Kar Gayi Hai Kisi Ki Najar Mujhe,
Imaan Ki Toh Ye Hai Ke Imaan Ab Kahan,
Kafir Banaa Gayi Teri Kafir Najar Mujhe.

उठती नहीं है आँख किसी और की तरफ,
पाबन्द कर गयी है किसी की नजर मुझे,
ईमान की तो ये है कि ईमान अब कहाँ,
काफ़िर बना गई तेरी काफ़िर-नज़र मुझे।

Love shayari :कसूर तो था ही इन निगाहों का,

love Shayari in Hindi

kashoor to tha in nighao ka,
jo chupke se didar kar betha,
hamne to khamos rahne ki thani thi,
par bewefa ye juban izhar kar betha,
love u my Dear

कसूर तो था ही इन निगाहों का,
जो चुपके से दीदार कर बैठा,
हमने तो खामोश रहने की ठानी थी,
पर बेवफा ये ज़ुबान इज़हार कर बैठा,,,, 💕
love u my Dear